Total Pageviews

Sunday, October 4, 2020

परीक्षा- कक्ष में वीक्षक महोदय


परीक्षा- कक्ष में बैठे- बैठे वीक्षक महोदय पर नज़र चली  गई जो अपनी बड़ी तोंद पर टेक लगाए अजीब सी मुद्रा में बैठे ऊँघ रहे थे. बेचारे को देख कर बड़ी दया आई कि 27 अप्रैल की गर्मी में उन बेचारे को भी सजा झेलनी  पड़ रही है. अगले ही पल अपनी बेरोजगारी से अफ़सोस घटा. हम बेचारे बेरोजगार विद्यार्थी तो किसी भी मौसम में परीक्षा में शामिल होने को मज़बूर हैं , पर उन रोज़गार वाले वीक्षक महोदय को गर्मी से लद- फद देखकर अपने हाल पर संतोष हुआ कि ये घर पर भले ही AC/Cooler का खर्च वहन कर सकते हैं, पर दिन की गर्मी उनको हम बेरोजगारों के साथ धीमी गति वाले पंखे के नीचे ही गुजारनी पड़ेगी .
 
बहरहाल, इस से पहले कि विचारो का रथ मुझे सुखद कल्पना लोक का सफर कराए, मन पर लगाम लगा कर प्रश्नो का उत्तर लिखना आवश्यक था वरना ... 😓😓
 
परिणाम की भयंकरता से सिहरन हुई और मैंने अपना ध्यान उत्तर- पुस्तिका पर केंद्रित कर लिया .
 
मन पर लगाम कसना दुनिया के सबसे कठिन कार्यो में शुमार है. परीक्षार्थी का मन परीक्षा- कक्ष में बैठे- बैठे उत्तर- पुस्तिका पर कम और बाकी दुनिया पर ज्यादा लगता है. इन बाकी चीजों में यह विचार भी शामिल रहता है कि अगली परीक्षा में अच्छा करुँगी/ करूँगा. 
 
हाँ, तो इस बार मेरा ध्यान तब भंग हुआ जब वीक्षक महोदय अपनी तोंद समेत कुर्सी से उठे. अँगराई लेते हुए उन्होंने चौक उठाकर श्यामपट्ट पर कुछ सफ़ेद अक्षर लिखे, "27 अप्रैल 2020, सोमवार".
 
एक परीक्षार्थी का चंचल मन तुरंत ही इन अक्षरों को लिखे जाने का कारण ढूंढने लगा. परीक्षा समाप्त होने में अब बस आधा घंटा ही शेष था और सभी परीक्षार्थी अपनी उत्तर- पुस्तिका में दिन, दिनांक इत्यादि सूचनाएँ भर चुके थे. जिनको याद नहीं था, उन्होंने सह- परीक्षार्थिओं से या वीक्षक महोदय से ही पूछ- पूछकर लिख लिया था. बल्कि यह सूचना यदि पहले लिख दी गई होती तो उत्तर रटने के चक्कर में दिन और दिनांक भूलने वाले परीक्षार्थिओं को उतनी पूछ- ताछ नहीं करनी पडती.
 
फिर क्या वजह हो सकती है कि वीक्षक महोदय ने अपनी तोंद समेत पूरे शरीर को कष्ट दिया और अपने हाथो की हरकत से श्यामपट्ट को सफेदी चखाई ???
 
मुझे लगने लगा कि सिर्फ परीक्षार्थी ही नहीं बल्कि वीक्षक का मन भी परीक्षा- कक्ष में चंचल हो जाता है. परीक्षा- कक्ष जगह ही ऐसी होती है जहाँ ध्यान केंद्रित नहीं हो पाता।
 
या फिर दूसरी वजह ये हो सकती है कि वीक्षक महोदय को उन दिनों की याद आ गई हो जब वे परीक्षार्थी हुआ करते थे. अब वीक्षक बनकर उत्तर लिखना तो संभव नहीं था. अपना नाम श्यामपट्ट पर लिखने का मतलब था हँसी का पात्र बनना। क्रमांक (रोल- नंबर) जैसी परीक्षार्थी- सुलभ चीजें अब  वीक्षक महोदय के लिए दुर्लभ थीं. इसलिए उन्होंने दिन और दिनांक लिखकर पुरानी यादों को ताजा किया होगा, क्योंकि हो सकता है कि किसी परीक्षा में वो सिर्फ नाम, क्रमांक , दिन और दिनांक लिखने के अलावा वो कुछ ना लिख पाए हों और कोरे उत्तर पुस्तिका पर मिले लड्डू की वजह से उनके बाबूजी ने उनपर कोड़े बरसाए हों और उनके माथे पर लड्डू निकल आया हो. 
कहते हैं, मन में जिस बात का भय हो, वह काम कर ही डालना चाहिए, ताकि भय मिट जाए.
 
शायद वीक्षक महोदय इसी टोटके को आजमा रहे हों. बैठे तो वो परीक्षा- कक्ष में ही थे. अब आज उन्होंने सिर्फ दिन और दिनांक लिखा. ऐसा लिखने पर भी उनके बाबूजी उनको कोड़े नहीं मारेंगे, यह बात तो तय है. एक पंथ दो काज- वीक्षक महोदय के मन का भय मिट गया होगा और पुरानी यादे भी ताजा हो गई होंगी. 
 
वैसे वीक्षक महोदय की इज्जत को ध्यान में रखते हुए पुरानी यादें ताजा होने वाला अनुमान ज्यादा सटीक है. आख़िरकार 'नॉस्टैल्जिया' (NOSTALGIA)  एक प्रचलित शब्द है.

नोट- इस पोस्ट का उद्देश्य किसी को अपमानित करना या किसी की भावनाएँ आहत करना नहीं है. अतएव एक सत्य घटना होने के बावजूद दिन और दिनांक बदल दिए गए हैं ताकि कोई भी व्यक्ति लक्षित वीक्षक महोदय के नाम का अंदाजा ना लगा सके. यह पोस्ट एक स्वस्थ मनोरंजन के उद्देश्य से प्रकाशित किया गया है. 
 
इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया का नीचे कॉमेंट सेक्शन में इन्तजार रहेगा. कॉमेंट करने के लिए email- id की जरुरत होती है, जो सार्वजनिक नहीं की जाएगी.

पोस्ट पसंद आ रहा हो तो इसे शेयर अवश्य करें एवं ब्लॉग को सब्सक्राइब करें. 

🖊 प्राची कुमारी


Wednesday, April 15, 2020

Lock- down, The Bird in My Current- House and A Throwback to Childhood- Paradise full of Sparrows

Lock- down, The Bird in My Current- House and A Throwback to Childhood- Paradise full of Sparrows

I thought I am the person who loves solitude, but this Lock- down scenario appears to prove me wrong. 😅 Now I am of the notion that though I love solitude, I also love to spent time with people for at- least some time in a day. Absolute solitude is sort of punishment I think.

In my lodge, every girl has kept herself confined in her respective room, which is indeed a responsible behavior during corona pandemic.

As far as I am concerned, I had already made myself aloof from rest of the world even before the term 'self- quarantine' came into vogue in India. So, on the first day of official Lock- down; I had already spent a week of self- quarantine. 
Pats on my back. How sensible I am as a person. 😜

Gradually, I started getting bore in my room. I started missing my long walks on road, watching birds playing on trees and other stuff I used to do outside. 

By the end of month of March, I was too bored to do anything. I could not write a Blog- Post; or if already written, I was not able to type and upload. The only thing I did was updating WhatsApp status and playing challenge- games. 😂
There were lots of pending tasks and I kept on procrastinating. 

On 4th of April, I was lying lazily on my bed, when I saw this bird in my room. The presence of this tiny living thing suddenly made me energetic. I smiled and said, "GOOD MORNING". 

The little creature flew away in fear when I moved a bit from my place. ALONG WITH HER, WAS FLOWN AWAY MY BOREDOM.
(I was able to click some pictures from distance the next morning, which I have used in thumbnail) 

It was that Bird's positive vibes that I was able to write The Sunday- Post and I am able to write this one as well.
Thank you mother- nature for creating such amazing creatures.

I had never cherished this fact before that a Pigeon or a Dove  comes to my house everyday, since I did not like its voice.
(as I don't know difference between the two, I apologize for my ignorance 🙏 Any Ornithologist reading the post... please help me out with this)

This Pigeon makes a strange bird- call. The first time I had heard it, I felt it to be too annoying, noising and harsh. It felt as if someone is crying in agony. The melancholy in its voice was not bearable to me at all. I love to hear sweet chirping only.

Generally, sweet chirping of birds is what the impression we have in our head since childhood. Every poetry we read, or every song we hear; explains that voice of birds is sweet and sweet only.

In fact, while writing this Post early in the morning right before dawn, I can clearly hear Kuhu-Kuhu of Cuckoo bird (Asian Koel) from outside. THE SIGNATURE SWEET SOUND.

This bird- call is followed by mixed chirping of various birds. It felt as if a bunch of iconic musicians are composing a song in harmony with different instruments. Then I heard loud raspy signature call of a crow.

"Caw- Caw"

The combined effect of all these bird- calls sent me on a journey back to my childhood.

My childhood- paradise was situated in a conventional village of Bihar. The house was an old- fashioned architect in a small village with huge courtyard. There was a tree in my courtyard, which used to be a mandatory presence in all the houses over there. That tree still lies there. 🤞

As stated earlier, that house was an old- fashioned architect; it had enough space for birds, cats, rats and serpents as well to breath freely (subject to law of survival) along with humans.

The house had thick walls. So, ventilator area was the ideal place for birds' nest. Requisite material for constructing a nest was also easily available in a village household. 

Sparrow was the bird I encountered the most while growing up. The chirpy sparrow. I could never understand her language; I don't know if she could get that of mine. But I often felt as if she had a sense of competition with me; or she just gained delight in annoying me. I would explain why I felt so.
Whenever I attempted to memorize Tables, or study any tough subject; she used to start singing in her exuberant voice.

Gradually I moved to live in town and then cities. Now, I miss the presence of that naughty sparrow around me. Even if I don't know it was the same bird all the time or not; as birds look identical UNLIKE HUMANS.
OR
It is fault of my ignorant eyes that I cannot differentiate between them, because old ladies in my house did the job. They could not only tell the difference in appearance, but could also tell the difference in nature of birds of same species.

My grandmother's elder sister (मौसीईआ) would tell- "This bird is naughtier. That bird is sweet and calm."
God knows how she did all this. I am the dumbest of all people in this respect I feel.

Coming back to present time, and hearing birds chirping (including this Pigeon's unusual call), I feel elated. This pleasant sound is filling me with positivity.

Now I realize why I felt the voice of Pigeon to be annoying, noising and harsh. I think it was my state of mind and not the bird's- sound. Now, when I have started cherishing the presence of this bird around me; it makes more sense to me during Lock- down period.

'Social- distancing' is the only way to fight this Corona Pandemic. I am grateful to God for filling this world with other creatures along with humans. This tiny creature saved me from getting depressed. Its presence helped me in completing my pending tasks. Though, I have always been an avid- bird- viewer; I have started falling in love with birds. 

Thank you, 'The Bird in my House' for giving me this perspective to handle the situation. While the entire world is shaken by this pandemic, I found solace in a bird- call.
Do tell me your story of positivity during Lock- down in comments- section below and Subscribe the Blog.

🖊 Prachi Kumari

DISCLAIMER
 

Sunday, April 12, 2020

आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 2)


आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 2)



आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 1) में जो भूमिका बांधी जा चुकी है, उसके आगे चर्चा शुरू कर रही हूँ. 

हमलोग पहले ही इस बात पर चर्चा कर चुके हैं कि विवाह सर्वाधिक जटिल एवं ताम- झाम वाला संस्कार है और इसके कई चरण होते है. मोटे तौर पर वे चरण हैं-
  • सुयोग्य वर- वधू की तलाश 
  • छेंका, रोक्का अथवा अंगूठी पहनाने की रस्म 
  • शुभ तिलकोत्सव 
  • शुभ- विवाह 
  • वर- वधू स्वागत समारोह 
  • हनीमून
पहले चरण पर चर्चा पिछले पोस्ट में हो चुकी है. आज दूसरे चरण की बारी है. 

2. छेंका, रोक्का अथवा अंगूठी पहनाने की रस्म

फिल्मों और टेलीविज़न धारावाहिकों के अलावा आम जीवन में भी बहुतायत में प्रयुक्त एक संवाद (डायलॉग) है- "चलें, मुँह मीठा करे. अब रिश्ता पक्का." तो यह जो प्रक्रिया है, वो मुँह मीठा करके रिश्ता पक्का करने वाला चरण है.  

कई बार मुँह मीठा करके भी शुरू किया गया रिश्ता कड़वाहट से बच नहीं पाता. जरा विचार करें उसके पीछे कारण क्या होता है. 
क्या बासी मिठाई इसका कारण होती है ?
अथवा,
लोगों के बासी से भी ज्यादा बासी विचार ?
मेरे ख्याल से अनगिनत अपेक्षाओं का बोझ सामने वाले पर डालते रहने वाले लोग ही बोते है कड़वाहट का बीज. ऐसी अपेक्षाओं का कोई ओर- छोर नहीं होता. 

हमारे यहाँ सामान्य तौर पर स्वजातीय विवाह की परंपरा है. अंतरजातीय विवाह भी प्रचलन में आ रहे हैं, पर मेट्रो शहरों की बात छोड़ दें तो ऐसे विवाहों की संख्या आज भी नगण्य है. स्वजातीय विवाह हों अथवा अंतरजातीय विवाह; मन का जुड़ाव एवं सम्मान की भावना अति- आवश्यक है. 

मैंने स्वजातीय विवाह परंपरा की बात इसलिए की, क्योंकि मुझे इसके पीछे के तार्किक आधार की चर्चा करनी थी. मेरे अवलोकन के अनुसार स्वजातीय विवाह परंपरा के पीछे का तर्क ये रहा होगा की एक ही तरह के परिवेश में रहे लोगों को एक- दूसरे के साथ सामंजस्य बैठाने में आसानी होगी. जैसा कि हम जानते हैं, हमारे यहाँ वैदिक काल से ही प्रत्येक जाति की कुछ विशेषताएँ तय की गई हैं एवं उनके कार्य भी निर्धारित हैं. विवाह आज भी मुख्यतः वैदिक रीति- रिवाजों से ही संपन्न होता है. अब इन दोनों तर्कों को एक साथ जोड़े तो स्वजातीय विवाह पर जोर देने का कारण यह होना चाहिए कि आपसी सामंजस्य से रिश्ता शोभित हो. परन्तु ऐसे विवाहों में भी कड़वाहट घोलने का काम अनगिनत अपेक्षाओं का बोझ सामने वाले पर लादने वाले लोग कर हीं डालते हैं, जिनकी चर्चा मैंने शुरू में की. 


यदि हम एक- दूसरे के सम्पूर्ण व्यक्तित्व को बिना बदलाव किये स्वीकार करना सीख लें तो स्वजातीय विवाह हों अथवा अंतरजातीय विवाह; दोनों सफल रहेंगे. परन्तु दखलअंदाजी तो हमारी विशेषता है. जबतक हम एक- दूसरे के उठने- बैठने, खाने- पीने, बोलने- चालने, कपड़े- लत्ते इत्यादि असंख्य चीजों पर टिप्पणी अथवा छींटाकशी ना कर लें, हमें चैन कहाँ मिलता है. अब इतने शब्द बाणों से बेधे गए रिश्ते कड़वे तो होंगे हीं, बेचारी मिठाई ताजा रहकर क्या कर लेगी

हाँ तो विवाह संस्कार के इस दूसरे चरण यानी छेंका, रोक्का अथवा अंगूठी पहनाने की रस्म के दौरान ही दोनों खानदानों के काफी लोगों का मिलन हो जाता है, छींटाकशी की शुरुआत हो जाती है और मिठाई खा कर शुरू किये गए रिश्ते में नमक डलना भी चालू हो जाता है.

'छेंका' नाम पर हीं हंसी आती है. इस रस्म में फल, मिठाई, कुछ आभूषण, कपड़े- लत्ते, रुपये- पैसे इत्यादि सांसारिक वस्तुओं को उपहारस्वरूप देकर अपना कब्ज़ा सिद्ध किया जाता है. 😁

'रोक्का' भी ऐसे ही मिलते- जुलते रस्म का नाम है, जिसमे फल, मिठाई, कुछ आभूषण, कपड़े- लत्ते, रुपये- पैसे इत्यादि सांसारिक वस्तुओं को उपहारस्वरूप देकर विवाह योग्य पक्ष को किसी और का होने से रोक लिया जाता है. 😄

'अंगूठी पहनाने की रस्म' या 'ENGAGEMENT' की रस्म मुख्यतः संचार- क्रांति की देन है. एक दशक पीछे जाएं तो यह रस्म नगण्य थी. आम आदमी के जीवन में इस रस्म का आगमन कराने में टेलीविज़न धारावाहिकों का प्रमुख योगदान है.

मुझे यह रस्म बड़ी मनोरंजक लगती है. दोनों खानदानों के चुनिंदा सम्बन्धियों का मिलन तो हो ही जाता है इस रस्म के दौरान, और बड़े बजट की शादियों में तो पूरे कुटुंब का मिलन अभी हीं हो जाता है. रिश्तेदारों को वर- वधू के प्रथम दर्शन हो जाते है. सजने- सँवरने का शौक रखने वालों को फैशन- परेड का एक और अवसर मिल जाता है, और मेरे जैसे तथाकथित ख़राब 'ड्रेसिंग- सेंस' वाले व्यक्ति की सांसत हो जाती है. 😅

ये सजने- सँवरने का बाजार पहले सिर्फ लड़कियों एवं महिलाओं तक सीमित हुआ करता था, अब लड़के इसमे मात देते नज़र आ रहे हैं. मेरे भाइयों के 'हेयर- जेल' से सँवारे गए बालों की वजह से और ज्यादा नुमायां होते मेरे 'झाड़- झंखाड़ बालों' को देखकर मुझे इस बात का शिद्दत से एहसास हुआ. 😂 

'अंगूठी पहनाने की रस्म' का एक और परिणाम ये होता है कि रिश्तेदारों के नीरस जीवन में थोड़ा रस आ जाता है. भले ही आँखों पर मोटा चश्मा लगा हो, दृष्टि बाज की हो जाती है. वर- वधू के समस्त गुणों- अवगुणों को वो लोग चश्में के पीछे से तोल लेते है. मसलन-

"लड़की के माथे पर आँचल नहीं है, पता नहीं सास- ससुर की इज्जत करेगी भी या नहीं."

अब कोई उनसे पूछे कि गाउन पहनकर सर पर पल्लू कैसे रखा जाता है. इस बात को भविष्य में सास- ससुर की इज्जत से जोड़ने का क्या तुक है. आखिर वो कन्या अभी 'मिस' ही है, 'मिसेस' नहीं बनीं. शादी के बाद ऐसे टोकने का कुछ औचित्य भी है, पर पहले ही क्यों?

वैसे तो किसी भी समय यह व्यक्तिगत चुनाव का मामला होना चाहिए, ना कि थोपे गए तथाकथित आदर्श का. इस मुद्दे पर हर कोई व्यक्तिगत विचार रखने को स्वतंत्र है. 

ऐसी बेतुकी टिप्पणियों से वर का सामना भी होता है. उसके सर पर थोड़े से भी कम बाल देखकर कुछ रिश्तेदार मुँह बिचकाते नज़र आते हैं; भले ही उनका खुद का दामाद पूरी तरह से 'उजड़ा चमन' क्यों न हो, बर्ताव ऐसे करेंगे जैसे वो 'केश- किंग' का 'ब्रांड- एम्बेसडर' हो. 😹 

कुछ रिश्तेदारों को ये जानने में दिलचस्पी होती है कि नौकरी सरकारी है या प्राइवेट. कुछ को खानदानी संपत्ति की जानकारी चाहिए होती है, तो कुछ को खानदानी इतिहास- भूगोल की. 

ऐसे ही अनगिनत सवालों- जवाबों एवं फोटोग्राफर द्वारा सुझाए गए अजीबोगरीब पोज़ करने के असफल प्रयास के बीच कुछ खट्टी- कुछ मीठी यह रस्म संपन्न होती है. 


नोट- मैंने कहा था न मुख्य संस्कार यानि विवाह तक पहुंचने की प्रक्रिया काफी लंबी, नाज़ुक एवं उलझाऊ होती है. मैंने अपने विचार साझा किए हैं. यदि किसी की भावना आहत हुई हो तो अग्रिम रूप से ही क्षमाप्रार्थी हूँ.

विवाह संस्कार के अगले चरणों की चर्चा अगले रविवार के पोस्ट में की जाएगी. आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 1) पढ़ने के लिए यहाँ click करें. उस आलेख को आपका प्यार देने के लिए धन्यवाद.

इस पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया का नीचे कॉमेंट सेक्शन में इन्तजार रहेगा. कॉमेंट करने के लिए email- id की जरुरत होती है, जो सार्वजनिक नहीं की जाएगी.

पोस्ट पसंद आ रहा हो तो इसे शेयर अवश्य करें एवं ब्लॉग को सब्सक्राइब करें. 

🖊 प्राची कुमारी

DISCLAIMER:- Click here to know Copyright- Policies.

Sunday, April 5, 2020

आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 1)

   आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह संस्कार एवं इसकी जटिलता (भाग- 1)


यहाँ सर्वाधिक महत्व से मेरा तात्पर्य बेवजह की ताम- झाम एवं सर्वाधिक ध्यानाकर्षण से है. जवान होते लड़के- लड़कियों की तरफ हर किसी का ध्यान रहता है कि कब होगी शादी? कभी- कभी तो यह सवाल इतने ज्यादा मुखर रूप में सामने आता है मानों जीवन का चरम लक्ष्य शादी हीं हो. 

कन्या और वर का विवाह निश्चित होने यानि दोनों पक्षों के राज़ी होने से लेकर वास्तव में विवाह सम्पन्न होने तक की प्रक्रिया काफी लम्बी होती है. 

हाल ही में परिवार में एक विवाह समारोह के प्रमुख कर्ता- धर्ता के रूप में नजदीक से अवलोकन करके मैंने यह महसूस किया कि विवाह- संस्कार सर्वाधिक जटिल संस्कार है और संपूर्ण प्रक्रिया कई चरणों में संपन्न होती है

आज लॉकडाउन की स्थिति में जब शुभ लग्न होने के बावजूद कईयों के विवाह स्थगित करने पड़े हैं, मैंने सोचा क्यों ना लेखनी के माध्यम से एक आधुनिक भारतीय हिन्दू विवाह समारोह का आनंद उठाया जाए. 

वैसे भी टेलीविज़न पर 'रामायण' का पुनः- प्रसारण और राम- सीता विवाह प्रसंग देखने के बाद इस प्रसंग का वास्तविक जीवन से तुलनात्मक अध्ययन तो अवश्यंभावी है. (वैसे तो त्रेता- युग के प्रसंग का कलयुगी प्रसंग से तुलनात्मक अध्ययन एक दृष्ट्ता है, फिर भी विनम्र भाव से प्रयत्न कर रही हूँ. उम्मीद है किसी की भावना आहत ना होगी.

हाँ, तो मैं कह रही थी कि विवाह की संपूर्ण प्रक्रिया कई चरणों में संपन्न होती है. मोटे तौर पर वे चरण हैं-
  • सुयोग्य वर- वधू की तलाश 
  • छेंका, रोक्का अथवा अंगूठी पहनाने की रस्म 
  • शुभ तिलकोत्सव 
  • शुभ- विवाह 
  • वर- वधू स्वागत समारोह 
  • हनीमून  
इसके बाद बात प्रथम संस्कार की तरफ मुड़ जाती है. 😜

यूँ तो देखने में ये सिर्फ कुछ चरण हैं, पर इनमें से प्रत्येक अपने आप में बहुत सारी प्रक्रियाओं को समाहित किए हुए है. तो आइये प्रत्येक चरण का पृथक अवलोकन करते है.


1. सुयोग्य वर- वधू की तलाश:- 

यह प्रक्रिया कभी ख़त्म ना होनेवाली खोज जैसी लगती है. हालांकि आस-पास हो रहे सैकड़ो विवाह समारोहों को देखकर तो यही लगता है कि यह एक आसान कार्य होगा, तभी इतने लोगों की जोड़ियां मिली; पर वो जोड़ीदार ज्यादातर मामलों में ऐसे रहते हैं, मानों योग्य साथी ना मिलने की स्थिति में समझौता कर रहें हों. कुछ मामलों में अवश्य 'चाँद- सूरज की जोड़ी' वाला केस रहता है, बाकी में "और बेहतर मिल सकता/सकती था/थी" वाला केस रहता है. 

मेरे हिसाब से ऐसी मनोस्थिति तब आती है, जब लोग स्वयं का आकलन किए बिना 'डिमांड' और अपेक्षाएँ बहुत ज्यादा रख लेते हैं. और कुछ जोड़ियां वाकई बेमेल होती हैं. 

हमारे यहाँ प्राचीनकाल से ही स्वयंवर की प्रथा रही है. सीता- स्वयंवर के आयोजन का उद्देश्य भी यही था कि सीता से कम योग्य वर से उनका विवाह ना हो. सीताजी शिवजी का धनुष उठा पाने में सक्षम थीं. यह कार्य कोई और ना कर पाता था. अतः उनका विवाह एक ऐसे वर से ही हो सकता था, जो शिवजी का धनुष उठा पाने में सक्षम हो. 

सम्पूर्ण रामायण में सीता- स्वयंवर मेरा सर्वप्रिय प्रसंग है, क्योंकि यह घटना प्रतीकात्मक रूप से यह दर्शाती है कि विवाह हेतु कन्या एवं वर को सामान रूप से सामर्थ्यवान होना चाहिए. यह कथा प्रतीकात्मक रूप से बेमेल विवाह का विरोध भी करती है. ये कथा यह भी दर्शाती है कि कन्या का विवाह उस से कम योग्य वर से करना शास्त्र- सम्मत नहीं है. 

मुझे आज के युग में यह कथा और भी प्रासंगिक लगती है, जब दहेज़ प्रथा की वजह से सुयोग्य किन्तु गरीब कन्या का विवाह उस से बहुत कम योग्य वर के साथ होते देखती हूँ. 

स्त्री के मान- सम्मान की स्वरचित आधुनिक परिष्कृत परिभाषा को मुखर रूप से व्यक्त करने वाली स्वाभिमानिनी अपराजेय ध्रुवस्वामिनी के देश को सीता- स्वयंवर- प्रसंग से बहुत कुछ सीखने की आवश्यकता है. 

आधुनिक भारतीय समाज में विवाह के प्रथम चरण का वर्णन करते हुए रामायण का एक और संवाद याद आता है; जिसका सार है:- "विवाह दो व्यक्तियों का नहीं बल्कि दो कुटुम्बों का मिलन होता है."  

अब यह कुटुम्बों का मिलन अपने- आप में एक जटिल प्रक्रिया है. जब एक घर में, एक ही परिवेश में पले- बढ़े मुठ्ठी भर व्यक्तियों में मतांतर हो जाता है; तो यहाँ तो दो खानदानों के एक बड़े समूह को आपस में मिलाना होता है. मतभेद तो स्वाभाविक है. कभी- कभी यही मतभेद मनभेद में बदल जाता है और मोतीचूर चकनाचूर होने की नौबत आ जाती है

हाँ, तो योग्य वर- वधू को मिलाने में रिश्तेदार अहम भूमिका का निर्वाह करते हैं. घर में लड़की या लड़का के बालिग होने के पहले से ही ये लोग या तो टोकना शुरू कर देते हैं कि कब होगी शादी, अथवा अजीबोगरीब रिश्ते सुझाना शुरू कर देते हैं. तर्क ये होता है कि अभी से 'छेंक' लो, इस से पहले की कोई और 'छेंक' ले. सलाह देनेवाले ऐसे अति- उत्साही लोगों को 'अगुआ' कहते हैं, जो सहर्ष बिचौलिए की भूमिका अदा करने को तैयार रहते हैं. मुझे तो लगता है इसके पीछे मूल भावना आपके ऊपर एहसान लादना होता है कि मैंने आपके बच्चे की शादी कराई, बदले में आप भी मेरे लिए कुछ करो. 

कुछ 'अगुआ' खैर निःस्वार्थ भाव से काम करते है. उन्हें लगता है कि रिश्ते जोड़वाना पुण्य का काम है. पुण्य कमाने की इस धुन में उनकी नज़रे सदैव लड़के- लड़कियों पर टिकी रहती हैं और कल्पनाओं में उन्हें सिर्फ 'सुयोग्य सुमेल' यानि 'परफेक्ट मैच' दिखते रहता है. मुझे तो डर लगता है कि कहीं उनकी बाज़ नज़र 'पानीपुरी' के ठेले पर हँस- हँस कर स्वाद लेती लड़की और दाँत निपोरे ठेलेवाले पर पड़ गई तो वहाँ भी 'परफेक्ट मैच' ना घोषित कर दें; आखिर इनकी सक्रियता शादी- विवाह समारोहों में कुछ ज्यादा ही बढ़ी रहती है. 

कुछ अगुआ तो वर या कन्या के रास्ते से 'कांटा' हटाने के लिए उस 'तथाकथित कांटे' का 'टांका' किसी और से भिड़ाने का बीड़ा लिए घूमते हैं. वो अपनी खुली हुई चुटिया तभी बाँधते हैं,जब लक्षित कार्य संपन्न हो जाता है. 
अलग- अलग भेष में ऐसे अगुआ मुझे सर्वव्याप्त नज़र आते हैं. 


प्रेम- विवाह की स्थिति में अगुआ लोगों को अपने अस्तित्व पर संकट नज़र आने लगता है और वो लोग ऐसे विवाह का विरोध कभी खुलकर तो कभी दबी ज़ुबान में करते हैं. 

संचार- साधनों के विकास के साथ- साथ 'वर्चुअल अगुआ' अर्थात 'मैट्रिमोनियल- साइट्स' का बाजार में पदार्पण हुआ. हज़ारो की तादाद में सुमेल शादियाँ कराने का दावा करने वाले ये 'वर्चुअल अगुआ' भी मानव अगुआ के समान हीं प्रतीत होते है क्योंकि यहाँ भी बढ़ा- चढ़ा कर सूचनाएँ लिखी जाती हैं और लोग बहुत अच्छे होने का अभिनय करते हैं. हालांकि अपने आस- पास कोई शादी होते देखा नहीं है मैंने इस अगुआ के माध्यम से, तो व्यक्तिगत राय अभी सीमित है. 

खैर, प्रेम विवाह हो अथवा अगुआ के सहयोग से माता- पिता द्वारा तय किया गया विवाह; सुयोग्य वर- वधू की खोज (अथवा सुयोग्य कहे जा सकने योग्य वर- वधू की खोज) पूरी होते हीं विवाह- संस्कार की ओर अग्रसरित पहला चरण पूरा होता है. 

नोट- विवाह संस्कार के अगले चरणों की बात अगले रविवार के पोस्ट में होगी. एक ही बार में काफी लम्बा पोस्ट पढ़ने में बोरियत हो सकती है.
इसके अलावा विवाह जैसी जटिल प्रक्रिया पर धीमी गति से चर्चा में ही आनंद आएगा.
आप नीचे कॉमेंट- सेक्शन में अवश्य बताएं कि आपको यह पोस्ट कितना प्रासंगिक लगा. यह भी बताएं कि सबसे मजेदार कौन सा वाक्य लगा. अपने अनुभव भी साझा करें.
मेरा उद्देश्य किसी की भावनाएँ आहत करना कतई नहीं है. एक स्वस्थ मनोरंजन के उद्देश्य से अपना नजरिया बता रही हूँ.
    
 
Send the link to the person whose wedding you attended last

परीक्षा- कक्ष में वीक्षक महोदय

परीक्षा- कक्ष में बैठे- बैठे वीक्षक महोदय पर नज़र चली  गई जो अपनी बड़ी तोंद पर टेक लगाए अजीब सी मुद्रा में बैठे ऊँघ रहे थे. बेचारे को देख क...