Posts

प्रार्थना- मूषकराज की

Image
तुम्हे यह प्रवृति ब्रह्मा ने, क्यों कर दी हे मूषकराज? वरदान मिला या अभिशाप, यह हमको तुम बतलाओ आज. 
व्यर्थ ही चीजों को काटते, तुम्हे नहीं क्या ये आभास? हमारे इस भारत देश में, हर वस्तु है खासमखास. 
विद्वान गणेश के वाहन हो तुम, फिर सरस्वती से कैसा बैर? क्यों पुस्तकों को काटने हेतु, करते हो घर-घर की सैर?
तुम्हारा यह अतुलनीय बल, कर सकता है हमारा उध्दार. अपनी इस अद्भुत शक्ति से, करो तुम देश का सुधार.
भ्रष्टाचारियों की खोह में, घुसो अपनी फ़ौज समेत.  उनके गुप्त द्वार को कुचलो, ताकि मीडिया ले उन्हें लपेट. 
यह कार्यक्षेत्र है विस्तृत, तुम वक्त की नज़ाकत पहचानो.  घर- घर में पूजे जाओगे, ये बात तुम आज ही जानो. 
गणपति के वाहन तुम, हमारा जीना ना करो हराम.  तुम्हारी कुतरन- शक्ति को, हम करते है दूर से प्रणाम. 
यह कविता लगभग आठ वर्ष पूर्व लिखी गई थी, पर शायद मूषकराज तक पहुंची नहीं; क्युकिं श्रीमान चूहा महोदय मेरी उसी डायरी को काट बैठे जिसमे यह प्रार्थना संजोई गई थी. इसीलिए मुझे लगा कि यह प्रार्थना आप पाठकों के सामने प्रस्तुत की जाए. शायद आपमें से किसी की बात श्रीमान चूहा महोदय सुन लें.
नोट- मूषकराज तक यह प्रार्थना पहुंचाने के लिए इस…

समानता का अधिकार और गोभी

Image
"समानता का अधिकार है बे"-- अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए तीव्र गति से कदम बढ़ाते आज जब मैं चली जा रही थी कि ये आवाज बगल से टुनटुनाती हुई निकल गई. टुनटुनाती हुई इसलिए क्योंकि ये आवाज एक साइकिल- सवार की थी जो पीछे दो गोभी और एक पुस्तिका एकसाथ दबाए अपने साथी से वार्तालाप करते चला जा रहा था. उनका बाकी वार्तालाप तो मैं नहीं सुन पाई पर शायद कानून का विद्यार्थी होने के नाते 'समानता का अधिकार' पर मेरे कान खड़े हुए, वरना मैं तो विद्यार्थिओं की हज़ार समस्याओं पर भी कानों पर जूं न रेंगने वाली व्यवस्था में जी रही हूँ और इसे ही परंपरा समझकर संतोष भी करती हूँ.
बहरहाल, "जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया ..." से इतर अधिकार की बात ने रोमांचित किया. हालांकि यह पहला अवसर नहीं था जब 'समानता का अधिकार' जैसे कालजयी शब्द सुने थे. अनुच्छेद 14 को कई बार पढ़ा, सुना और समझा है; अथवा "समझने की कोशिश की है" कहना ज्यादा उचित होगा. फिर भी आज उस साइकिल- सवार के शब्दों ने झकझोरा. उसका मुख ना देख पाई मैं, सिर्फ पीठ और गोभी ही देखा, और उसी दृश्य ने समानता के नए आयामों पर विचार …

Happy Valentine's Day my sister- in- love 😻 😻

I had always envied those who had Bhabhi until November last year. I had many friends or other people around me who used to talk about their Bhabhis or in some cases boast about them. So, it was one of my longest dreams to get a Bhabhi. Thanks to my Bhaiya, who got married and I got this amazing and refreshing relationship, which I had always craved for. Now, I am having a few months experience of getting into this relationship and I think I have got all the rights to boast about it. After all, I have waited so long for this. 😁  Having a Bhabhi has both its pros and cons. 😉 Let's first discuss its pros:- YOU GET A GOSSIP- PARTNER- Gossiping is attributed to girls. You start proving this point to be correct while talking with Bhabhi. You get into the role of 'Family- History- News- Reporter'. 😂 Since, you have invested all your life living with this family only, you know all about them; and what could be a better opportunity than this to impress someone with your easily acqu…

परीक्षार्थी और नींद

महाभारत काल में अगर सुभद्रा को नींद नहीं आई होती तो पुत्र अभिमन्यु का अधूरा ज्ञान उसकी मृत्यु का कारण नहीं बनता. विडंबना ये है कि बचपन से अबतक हज़ारो बार सुनी गई इस कथा का हम कलयुगी विद्यार्थियों की नींद पर कोई असर नहीं पड़ता और हम गाहे- बगाहे कुम्भकर्ण चचा के अवतार नज़र आते है. और तो और, हमारी कलयुगी निद्रा देवी को लालच भी नहीं आता सफल परीक्षार्थियो का साक्षात्कार पढ़कर। महत्वाकांक्षी 'दिमाग जी' के निर्देश पर हम जैसे ही जमकर पढाई करने बैठते है, निद्रा देवी अपना तांडव शुरू कर देती है. इतनी प्रबलता से आक्रमण करती है कि प्रतीत होने लगता है, "अभिमन्यु को मौत तो इसीलिए आई थी कि उसकी माता को निद्रा आई थी, पर हम अगर अभी नहीं सोएंगे तो हमारी मौत जरूर आएगी". वैसे नहीं सोने की नाकाम कोशिश से बेहतर यही होता है की हम 'सरेंडर' कर दे और हम यही करते भी है. दिलासा दिलाने के लिए महत्वाकांक्षी 'दिमाग जी' से हम ये कह देते है कि सफल परीक्षार्थी भी सोता रहा होगा, बस उसने यह बात पत्रिका वालो को नहीं बताई ताकि मम्मी की 'चप्पल', पापा का 'संस्कारहीन- आलस्य- प्रवीण' …

Friends are Panacea 😊😊

My permanent WhatsApp status is, "Friends are Panacea 😊😊". Indeed they are.

This quote has become eternal truth of my life. Panacea is something which is a solution or remedy for all difficulties or diseases. In my life, my friends are cure to all my problems. Since, no one is perfect; we need each other in different situations; we hate each other for one habit or the other; BUT, we complete each other by filling that imperfection of ours.
So, today's post is dedicated to all my friends... to whomsoever it may concern. 😎 
Sometimes friends are literally "JUST A CALL AWAY" and sometimes they are "OUT OF REACH". 😉 Sometimes they take precious CL or travel a distance of about 400 KMs on a general ticket just to see each other and sometimes they don't turn up despite invitation. 😀 Sometimes they become too competitive and sometimes they become a great कन्धा to support you at your failures. 
They are the best persons to scold you by worst ways. 😬 The…

My way of celebrating THE DAY

Image
I woke up today by hearing the song, "Jaha daal daal pr sone ki chidiya krti hai basera, wo Bharat desh hai merra..." I felt so positive, so patriotic and so proud that I am citizen of this Bharat. 🙂
within a moment, I was delving deep into my childhood memories, which consists of reading all great things about our country. The VishwaGuru, the Golden bird, the most tolerant place, the peace loving place and what not. School syllabus was filled with description of such personalities who heralded world peace; starting from Mahatma Buddha to Mahatma Gandhi and many more. Bollywood songs broadcasted on VividhBharti were fully jingoistic and still they are. I am pretty sure, everyone feels that way when it comes to the nation. Such songs are nothing but embodiment of our feelings.
School days were quite interesting. We used to deliver speeches and conduct cultural events after flag hoisting followed by sweet (Jalebi and Laddoo) distribution. My Republic day is still incomplete wit…

Greeting- Cards, Rhymes, Sweetness and me #Daily Diary

"चला जा ग्रीटिंग चमकते चमकते मेरी सहेली को कहना नमस्ते नमस्ते"
This is the message I received from one of my friends on WhatsApp four days ago. 😃 He probably had sent this as a matter of fun and it literally made me LOL. Then it reminded me of days when we used to do such things. Being a 90s kid, I have experienced the Greeting- Card era. Born in the age of landline phones, we had no convenience of sending a SMS or a WhatsApp Message. We had no easy access to Internet and sending greetings on email was rather a luxurious thing. Basically, expression of love & affection towards each other was not a matter of mere 'CLICK'. It used to take an effort of saving our pocket money, going to shops either to purchase ready-made Greeting- Cards or to purchase raw material to create a handmade Greeting- Card. We had an option to show more creativity by writing poetry or rhymes. The message I received from my friend, which made me write this post is that kind of r…